Income Plan Hindi

TYPES OF INCOME

इम्पेक्ट प्रोडक्ट्स की सेल पर ए.डी.पी. ओ को मिलता है  0% से 40 % रिटेल प्रॉफिट।

 

अगर आपने किसी महीने 5000 Rs की मूल्य के प्रोडक्ट्स की बिक्री की, और उन प्रोडक्ट्स पर रिटेल प्रॉफिट  20% हो, तो आप पाएंगे 1000 Rs रिटेल प्रॉफिट कमीशन।

 

इम्पैक्ट रिटेल प्रॉफिट के अतिरिक्त बिज़नेस वॉल्यूम का 70% बाँट देती है। याने रिटेल प्रॉफिट आपको अलग से मिलता है।

 

अगर आप रोज़ 1000 बिज़नेस वॉल्यूम का प्रोडक्ट सेल करते है जिसमे रिटेल प्रॉफिट 20% हो, तो महीने की सेल हो गई 30000 रुपयों की। आपका रिटेल प्रॉफिट होगा 6000 रुपए।

जब आप खुद किसी नए व्यक्ति को प्लान दिखाकर बिज़नेस में लाते है तो आप उस व्यक्ति के को-स्पॉन्सर कहलाते है। और आपको उनके जॉइनिंग और हर रिपर्चेस पर 8% को-स्पॉन्सर रॉयल्टी मिलता रहता है। यानी काम एक बार और पैसा बार बार।

 

मान लीजिए आपने इम्पैक्ट बिज़नेस की शुरुआत कि, और तीन महीनो में 100 लोगो को को-स्पॉन्सर किया। अगर यह सभी अगले महीने 5000 बिज़नेस वॉल्यूम का काम करते है तो आपका टोटल बिज़नेस हुआ 500000 बिज़नेस वॉल्यूम का। इसका 8% को-स्पॉन्सर रॉयल्टी आपको मिलेगा, यानी 40000 रुपए।

 

इसके अलावा कंपनी बिज़नेस वॉल्यूम का 62% अलग से बांटती है जिससे आपको और इनकम मिलता है।

 

अगर आपने अपने डाउनलाइन के किसी प्रोस्पेक्ट को प्लान दिखाया और वो अगर बिज़नेस जॉइन करते है तो आप उनके को-स्पॉन्सर होते है। और उनकी जोइनिंग से, और हर रिपर्चेस से को-स्पॉन्सर रॉयल्टी इनकम आपको मिलती है। जॉइनिंग डिटेल्स भरते समय इस बात का ख़ास ख्याल रखे।

नोट : को-स्पोंसर रॉयल्टी को-स्पांसर आई.डी. के मैपिंग के अनुसार दिया जाता है। यदि नए व्यक्ति ने ट्राइपॉड पैक से जोइनिंग लिया है तो को-स्पोंसर रॉयल्टी ऊपर वाले आई.डी. में चली जाएगी।

 

चार इंसेंटिव ज़ोन है : 5% बिगिनर ज़ोन। 15000 बिज़नेस वॉल्यूम होने पर 12% बिज़नेस ज़ोन। 50000 बिज़नेस वॉल्यूम होने पर 18% अचीवर ज़ोन। 160000 बिज़नेस वॉल्यूम होने पर 24% इनकम ज़ोन।

आपके सेल्फ रिपर्चेस को PBV (पर्सनल बिज़नेस वॉल्यूम) कहते है। जब आप नए लोगो को जोड़ते है, या आपके टीम के लोग नए लोगो को जोड़ते है, या टीम रिपर्चेस करती है तो उसे GBV (ग्रुप बिज़नेस वॉल्यूम) मिलता है। PBV + GBV = BV (बिज़नेस वॉल्यूम)

 

वन टाइम अचीवमेंट। एक बार आप किसी लेवल पर आ गए तो आपको हमेशा के लिए उसी लेवल के हिसाब से इनकम मिलती है। मतलब केवल प्रमोशन। नो डिमोशन।

 

आपको आपके परफॉर्मेंस झोन लेवल और आपके डाउनलाइन के परफॉर्मेंस झोन लेवल के घटाए गए प्रतिशत पर कमीशन मिलता है। आपकी टीम से होने वाली अनलिमिटेड डेप्थ लेवल के बिज़नेस को आपके बिज़नेस में माना जायेगा।

 

जब आप बिज़नेस की शुरुआत करते है तब आप 5% लेवल पर होते है। इसे बिगिनार ज़ोन कहते है।

 

जब आप 15000 BV कर लेते है तब आप बिज़नेस ज़ोन में आ जाते है और आपका लेवल 12% का हो जाता है। ऐसे में अगर आप किसी नए व्यक्ति को प्लान दिखाकर बिज़नेस में 2000 BV से लाते है, तो आपको को-स्पॉन्सर रॉयल्टी और परफॉर्मेंस जोन से मिलने वाली टोटल इनकम होती है 8% + 7% = 15% x 5000 BV = 750 रुपए। मतलब, अगर आप 10 नए लोगो को बिज़नेस में लाते है तो आपको 7500 रुपए मिल सकते है। अगर आपने सेल्फ पर्चेस किया 5000 BV का, तो आपको मिलेगा 5000 BV x 12% = 600 Rs

 

जब आप 50000 BV कर लेते है तब आप अचीवर ज़ोन में आ जाते है और आपका लेवल 18% का हो जाता है। ऐसे में अगर आप किसी नए व्यक्ति को प्लान दिखाकर बिज़नेस में 5000 BV से लाते है, तो आपको को-स्पॉन्सर रॉयल्टी और परफॉर्मेंस जोन से मिलने वाली टोटल इनकम होती है 8% + 13% = 21% x 5000 BV = 1050 रुपए। मतलब, अगर आप 10 नए लोगो को बिज़नेस में लाते है तो आपको 10500 रुपए मिल सकते है। अगर आपने सेल्फ पर्चेस किया 5000 BV का, तो आपको मिलेगा 5000 BV x 18% = 900 Rs

 

जब आप 160000 BV कर लेते है तब आप इनकम ज़ोन में आ जाते है और आपका लेवल 24% का हो जाता है। ऐसे में अगर आप किसी नए व्यक्ति को प्लान दिखाकर बिज़नेस में 5000 BV से लाते है, तो आपको को-स्पॉन्सर रॉयल्टी और परफॉर्मेंस जोन से मिलने वाली टोटल इनकम होती है 8% + 19% = 27% x 5000 BV = 1350 रुपए। मतलब, अगर आप 10 नए लोगो को बिज़नेस में लाते है तो आपको 13500 रुपए मिल सकते है। अगर आपने सेल्फ पर्चेस किया 5000 BV का, तो आपको मिलेगा 5000 BV x 24% = 1200 Rs

जो ए.डी.पी 12% क्वालीफाई होने से पहले, एक ही बिज़नेस महीने में 8000 BV का बिज़नेस करते है, वे फ़ास्ट ट्रेक पर बिज़नेस झोन (12%) में क्वालीफाई हो जाते है जिसे स्प्रिंट कहा जाता है

 

स्प्रिंट अचीवर्स को 2400 Rs के प्रोडक्ट केवल 600 Rs मूल्य में दिया जाता है। अधिक जानकारी के लिए अपने अपलाइन से संपर्क करे।

 

जिन ए.डी.पी के फ्रंटलाईन में एक ही महीने में 3 स्प्रिंट अचीवर्स हो, उन्हें स्प्रिंटर कहा जाता है।

 

स्प्रिंटर को 5000 Rs के प्रोडक्ट केवल 900 Rs मूल्य में दिया जाता है।

 

अगर आप 5000 PBV करते है तो आपको कंपनी के टर्नओवर का 4% मिलता है। यह लगभग आपके PBV का 20% होता है।

मान लीजिए आपने 5000 PBV किया और आप 18% लेवल पर है, तो ऐसे में आपको आपके पर्सनल सेल्स पर मिलेगा 20% + 18% = 38%. याने 5000 BV के सेल्स पर 1900 रुपए।

 

कंपनी के अन्य क्लब्स में अगर आप क्वालीफाई होते है तो वो सारे लाभ अलग से मिलेंगे।

 

अगर आप 11000 PBV या 25000 PBV एक बिज़नेस साइकल में करते है तो आप 1 + 1 = 11 क्लब में क्वालीफाई होते है। कंपनी के टर्नओवर का 10% क्वालीफायर्स में बांटा जाता है।

 

 

अगर आप 11000 PBV करते है तो आपको लगभग आपके PBV का 30% से 60% तक 1 + 1 = 11 क्लब से मिल सकता है। कंपनी के टर्नओवर का 10% क्वालीफायर्स को 3 महीने तक मिलता है।

 

अगर आप 25000 PBV करते है तो आपको लगभग आपके PBV का 60% से 150% तक 1 + 1 = 11 क्लब से मिल सकता है। कंपनी के टर्नओवर का 10% क्वालीफायर्स को 6 महीने तक मिलता है।

 

 

परफॉर्मेंस ज़ोन इंसेंटिव और चेम्पियन्स क्लब के लाभ भी अलग से मिलते ही है। निचे दिया गया वीडियो ज़रूर देखे और ध्यान से समझे।

https://www.youtube.com/watch?v=JyXuKuwY1y8

कंपनी के टोटल GBV का 6% लीडर्स क्लब क्वालीफायर्स के बीच बाँट दिया जाता है। अगर ए.डी.पी. के सभी लेग में से किसी एक लेग में 40000 GBV का बिज़नेस हुआ हो, अन्य दूसरे लेग में पहले लेग का 70% और तीसरे लेग में से पहले लेग का 40% बिज़नेस हुआ हो, तो ऐसे में ए.डी.पी. लीडर्स क्लब में क्वालीफाई होते है।

 

 

अगर ए.डी.पी. के सभी लेग में से किसी एक लेग में 40000 GBV का बिज़नेस हुआ हो, अन्य दूसरे लेग में पहले लेग का 70% और तीसरे लेग में से पहले लेग का 40% बिज़नेस हुआ हो, तो ऐसे में ए.डी.पी. लीडर्स क्लब में क्वालीफाई होते है।

 

अगर आप इसमें क्वालीफाई होते है, तो आपके टीम के हर जोइनिंग में से लगभग 20% आपको मिलेगा। जी हाँ, टीम के जोइनिंग पर, मतलब आपने अगर कोई प्लान नहीं दिखाया, आपकी टीम काम कर रही है, फिर भी आपको कंपनी के टर्नओवर का 6% मिलता है।

 

 

ऐसे में अगर 3000 BV का एक जोइनिंग होता है तो लीडर्स क्लब बोनस उस एक जोइनिंग से होता है लगभग 600 रुपए।अगर 100 जोइनिंग होती है टीम में तो आपकी लीडर्स क्लब इनकम होती है 60000 रुपये।

 

VIEW INCOME PLAN IN DETAIL

कंपनी के टोटल GBV का 15% मैनेजमेंट एक्सीलेंस बोनस क्लब क्वालीफायर्स के बीच बाँट दिया जाता है। 

 

ए.डी.पी. के एक लेग में 100000 GBV व  बाकी सारे लेग में से 60000 GBV का साइड वॉल्यूम होना आवश्यक है।

 

अगर आप इसमें क्वालीफाई होते है, तो आपके टीम के हर जोइनिंग में से लगभग 20% आपको मिलेगा। जी हाँ, टीम के जोइनिंग पर, मतलब आपने अगर कोई प्लान नहीं दिखाया, आपकी टीम काम कर रही है, फिर भी आपको कंपनी के टर्नओवर का 15% मिलता है।

 

ऐसे में अगर 3000 BV का एक जोइनिंग होता है तो लीडर्स क्लब बोनस उस एक जोइनिंग से होता है लगभग 600 रुपए।अगर 100 जोइनिंग होती है टीम में तो आपकी मैनेजमेंट एक्सीलेंस बोनस क्लब इनकम होती है 60000 रुपये। 

 

VIEW INCOME PLAN IN DETAIL

आज तक डाउनलाइन के काम से अपलाइन को पैसा आता रहा। अगर अपलाइन के इनकम में से इनकम मिलने लगे तो कैसा लगेगा?

 

 

इम्पेक्ट बिज़नेस में एक सफल ए.डी.पी. अपनी टीम को सफलता की ओर खींच ले जाता है। इस प्रकार, एक सफल ए.डी.पी. की टीम के मज़बूत ए.डी.पी. तेज़ी से सफल हो जाते है।

 

 

यही प्रक्रिया नए सफल हुए ए.डी.पी. की टीम पर लागू होता है। सफलता से सफलता उत्पन्न होती रहती है।

 

 

किसी भी महीने यदि ए.डी.पी. की इनकम 50000 Rs से अधिक हो जाती है (को-स्पोंसर रॉयल्टी अलग से दी जाती है), तो ऐसे में 50000 Rs से ऊपर की राशी अलग निकालकर उस ए.डी.पी. की टीम के टॉप 10 PBV धारको के बीच पूल इनकम के तौर पर बाँट दिया जाता है।

VIEW INCOME PLAN DETAILS